सनसनीखेज सिविल लाइन मर्डर केस में शामिल व संप्रेक्षण गृह से फरार नाबालिग बालक को अपराध शाखा ने भारत-नेपाल सीमा पर ढूँढ निकला

Listen to this article

परिचय:
दिनांक 01.05.2022 को, एक राम किशोर अग्रवाल, 77 वर्ष, निवासी सिविल लाइंस, दिल्ली की घर पर हत्या कर दी गई थी। इस संबंध में एक मामला प्राथमिकी संख्या 227/22, धारा 302/397/34 भारतीय दण्ड संहिता, थाना सिविल लाइन दर्ज किया गया था। एआरएससी/अपराध शाखा द्वारा मामला सुलझाया गया और इस संबंध में 02 बालक पकडे गए थे |
दिनांक 28/02/2023 को, यह बालक एक अन्य बालक के साथ मजनू का टीला, दिल्ली के संप्रेक्षण गृह से भाग गया था, जिसे बाद में पकड़ लिया गया ।

टीम और संचालन:
सहायक आयुक्त अरविंद कुमार की देखरेख में निरिक्षक अरुण सिंधु के नेतृत्व में उप निरिक्षक विक्रांत, हवलदार अवधेश और हवलदार देवेंद्र की एक टीम का गठन उपायुक्त अमित गोयल और सयुंक्त आयुक्त एस.डी. मिश्रा ने किया था।
मधुबनी बिहार में भारत-नेपाल सीमा पर फरार बालक की मौजूदगी के संबंध में हवलदार देवेंद्र को मिली गुप्त सूचना के आधार पर अपराध शाखा की टीम वहां पहुंची और उसको भारत-नेपाल सीमा पर मधुबनी, बिहार से उस समय पकड़ लिया जब वह सीमा पार करके नेपाल जाने वाला था। आगे की कार्रवाई के लिए बालको के संप्रेक्षण गृह, मजनू का टीला, दिल्ली के अधीक्षक को सौंप दिया गया है।
सीसीएल का ब्यौरा:
बिहार के मधुबनी का रहने वाला है व 9वीं कक्षा तक ही पढ़ा हैं। उसने अपने पिता की सिफारिश पर 3 महीने तक मृतक के घर पर काम किया और कुछ समय के लिए ड्राइवर के रूप में भी काम किया था फिर एक अन्य बालक के साथ मिलकर हत्या की। किशोर अपराध की दुनिया में आगे बढ़ने के लिए संप्रेक्षण गृह से भाग गया था और नेपाल में बसना चाहता था।

सीसीएल की पिछली भागीदारी:

  1. प्राथमिकी संख्या 227/22, धारा 302/397/34 भारतीय दण्ड संहिता, थाना सिविल लाइन, दिल्ली।
  2. ई प्राथमिकी संख्या 011650/22, धारा 379 भारतीय दण्ड संहिता, थाना वजीराबाद, दिल्ली।
Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *