दिल्ली पुलिस में मेंटेनेंस काम में हुए 350 करोड़ के भ्रष्टाचार की गृह मंत्रालय क्या सीबीआई या प्रवर्तन निदेशालय से जांच कराऐगा।- चौ0 अनिल कुमार

Listen to this article

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार के गृह मंत्रालय के अंतर्गत दिल्ली पुलिस में हुए 350 घोटाले की जिम्मेदारी लेते हुए केन्द्र सरकार इसकी जांच सीबीआई जांच से करवाऐ या मामला प्रवर्तन निदेशालय के पास जांच के लिए भेजे। जबकि पुलिस आयुक्त ने औपचारिकता के लिए अपने विभाग में हुए 350 करोड़ के घोटाले की जांच सर्तकता विभाग से कराने के आदेश दिए है, जिससे सिर्फ लीपापोती होगी।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि वर्ष 2022-23 वित्तिय वर्ष में दिल्ली पुलिस में मेंटेनेंस के लिए 350 करोड़ के घोटाले में 150 करोड़ माइनर वर्क और 200 करोड़ प्रोफेशनल सर्विसेज के लिए फंड का दुरुपयोग किया गया है। जिसका खुलासा दिल्ली पुलिस हाउसिंग निगम द्वारा हुए आडिड के बाद हुआ। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस जिस पर भ्रष्टाचार की रोकथाम की जिम्मेदार है, अगर पुलिस विभाग में करोड़ो का भ्रष्टाचार होगा तो भ्रष्टाचार से दिल्ली की रक्षा कौन करेगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस में कमीशन का खेल नया नही है, सभी जिला व यूनिटों के अधिकृत अधिकारी अपने पंसदीदा ठेकेदार को मेंटेनेंस का काम देते है और अपनी मर्जी का काम करवा कर फर्जी बिल तैयार करके सीधे प्लानिंग डिवीजन व फाईनेंस मेनेजमेंट डिवीजन को भेजकर पैसे प्राप्त कर लेते हैं, दिल्ली पुलिस में यह बहुत बड़ा भ्रष्टाचार हो रहा है।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली पुलिस में वरिष्ठता अनुसार खर्च होने वाली मद की स्वीकृति देने का प्रावधान है लेकिन खर्च की डीसीपी द्वारा स्वीकृति नही लेना सवाल खड़े करता है, इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार सीबीआई/प्रवर्तन निदेशालय जैसी जांच एजेंसियों पर दबाव डालकर राजनीतिक और गैर राजनीतिक लोगों पर मनमर्जी के मामले बनाकर जांच करा रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार दिल्ली पुलिस में 350 करोड़ के हुए घोटाले की जिम्मेदारी लेते हुए इसकी जांच सीबीआई/प्रवर्तन निदेशालय से कराई जाए। उन्होंने कहा कि करोड़ों के घोटाले के बाद आयुक्त के निर्देश पर प्रोविजन एंड फाईनेंस डिवीजन के विशेष आयुक्त ने सभी जिला व यूनिटों के 40 डीसीपी व एडिशनल डीसीपी को खर्चों का पूरा ब्यौरा पेश करने के आदेश बताता है कि पुलिस निदेशालय को मामूल हैं कि दिल्ली पुलिस में भारी भ्रष्टाचार व्याप्त है।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *