केजरीवाल ने आज श्रमिकों के लिये कुछ घोषणायें की हैं और ऐसा दर्शाने की कोशिश की है कि उन्हें श्रमिकों और उनके परिवारों की बहुत चिंता है पर यह श्रमिक कोविडकाल में केजरीवाल सरकार द्वारा दी गई प्रताड़ना और गांव भागने के लिये मजबूर किये जाने के अलावा केन्द्र सरकार की श्रमिक योजनाओं को दिल्ली में न लागू करने की ओछी राजनीति को भूले नहीं है – वीरेन्द्र सचदेवा

Listen to this article

*दिल्ली में बसे श्रमिक आज अरविंद केजरीवाल से जानना चाहते हैं कि उन्होंने केन्द्र सरकार की ई-श्रम कार्ड, श्रम योगी मानधन योजना, आयुष्मान भारत योजना, अटल बीमा योजना दिल्ली में क्यों लागू नहीं की – वीरेन्द्र सचदेवा

दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने कहा है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समाज के किसी भी वर्ग के समग्र उत्थान के लिये काम नहीं करते हैं, केवल वोट बैंक निर्माण के उद्देश्य से घोषणायें करते हैं पर अब धीरे-धीरे अन्य वर्गों के साथ अन्य राज्यों से आकर दिल्ली में बसे श्रमिक भी अरविंद केजरीवाल के दोहरे चरित्र को समझने लगे हैं।

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने आज श्रमिकों के लिये कुछ घोषणायें की हैं और ऐसा दर्शाने की कोशिश की है कि उन्हें श्रमिकों और उनके परिवारों की बहुत चिंता है पर यह श्रमिक कोविडकाल में केजरीवाल सरकार द्वारा दी गई प्रताड़ना और गांव भागने के लिये मजबूर किये जाने के अलावा केन्द्र सरकार की श्रमिक योजनाओं को दिल्ली में न लागू करने की ओछी राजनीति को भूले नहीं है।

वीरेन्द्र सचदेवा ने कहा है कि अरविंद केजरीवाल की आज श्रमिकों के लिये की गई घोषणायें केवल एक छलावा हैं। दिल्ली सरकार ने आज तक केन्द्र सरकार द्वारा बनाये गये ई-श्रम कार्ड को दिल्ली में लागू नहीं किया, श्रम योगी मानधन योजना लागू नहीं की, आयुष्मान भारत योजना लागू नहीं की, अटल बीमा योजना का लाभ श्रमिकों को नहीं दिया। दिल्ली में लगभग 40 हजार से अधिक ई.डब्ल्यू.एस. फ्लैट गत एक दशक पहले बने थे और अब खाली पड़े-पड़े खंडहर हो गये पर केजरीवाल सरकार ने इन्हें मजदूरों या जरूरतमंदों को आवंटित नहीं किया है। दिल्ली में बसे श्रमिक आज अरविंद केजरीवाल से जानना चाहते हैं कि उन्होंने केन्द्र सरकार की ई-श्रम कार्ड, श्रम योगी मानधन योजना, आयुष्मान भारत योजना, अटल बीमा योजना दिल्ली में क्यों लागू नहीं की ?

आज दिल्ली में सड़कों पर आवश्यकता से बहुत कम डी.टी.सी. बसें चलती हैं और साधारण श्रमिक भी अपने काम पर आने-जाने के लिये दिल्ली मेट्रो का उपयोग करते हैं। ऐसे में केजरीवाल द्वारा श्रमिकों के लिये बस सेवा मुफ्त करने की बात केवल एक छलावा मात्र है।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *