महिला एवं बाल विकास मंत्री आतिशी ने अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन के क्षेत्र में आंगनबाड़ियों की भूमिका को और सशक्त बनाने को लेकर अधिकारीयों के साथ की समीक्षा बैठक

Listen to this article

*अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन को बेहतर करना अब केजरीवाल सरकार के आंगनवाड़ियों की प्राथमिकता- महिला एवं बाल विकास मंत्री आतिशी

*आँगनवाड़ी वर्कर्स व सुपरवाईजारों को मास्टर ट्रेनरों से मिलेगा प्रशिक्षण ताकि आंगनवाडी केन्द्रों में आने वाले हर बच्चे को मिले बेहतर बुनियादी शिक्षा- महिला एवं बाल विकास मंत्री आतिशी

*बच्चों की पढ़ाई बने मजेदार इसलिए केजरीवाल सरकार अपने आँगनवाड़ी केन्द्रों को देगी लर्निंग किट- महिला एवं बाल विकास मंत्री आतिशी

*बच्चों की पढ़ाई में भागीदार बनाने के लिए आंगनवाड़ियों के ग्रुप एक्टिविटी में पेरेंट्स को किया जायेगा शामिल- महिला एवं बाल विकास मंत्री आतिशी

*केजरीवाल सरकार के आंगनवाड़ी केंद्र दिल्ली के लाखों बच्चों की बुनियाद को करेंगे मजबूत- महिला एवं बाल विकास मंत्री आतिशी

*केजरीवाल सरकार कर रही है सुनिश्चित-आंगनवाड़ी केंद्र हर उस ज़रूरी संसाधन से लैस हो जो माताओं और बच्चों के सर्वांगीण विकास में हो सहायक- महिला एवं बाल विकास मंत्री आतिशी

केजरीवाल सरकार दिल्ली में आंगनवाड़ियों को सशक्त बनाने की दिशा में प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है| दिल्ली में केजरीवाल सरकार के लगभग 11 हजार आंगनवाडी केंद्र है जो 0-6 साल के लाखों बच्चों की अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान देते है| सोमवार को महिला एवं बाल विकास मंत्री आतिशी ने विभाग के उच्चाधिकारियों के साथ इसकी समीक्षा बैठक कर इस दिशा में आंगनबाड़ियों की भूमिका को और सशक्त करने पर चर्चा की| इस मौके पर महिला एवं बाल विकास मंत्री ने कहा कि, अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन केजरीवाल सरकार की प्राथमिकता है| हम अपने आंगनवाडी केन्द्रों द्वारा दिल्ली के लाखों बच्चों की बुनियाद मजबूत करने का काम कर रहे है| उन्होंने कहा कि हम ये सुनिश्चित कर रहे है कि आंगनवाड़ी केंद्र हर उस ज़रूरी संसाधन से लैस हो जो माताओं और बच्चों के सर्वांगीण विकास में सहायक हो|

महिला एवं बाल विकास मंत्री आतिशी ने कहा कि, केजरीवाल सरकार आंगनवाड़ी केंद्रों में आने वाले बच्चों और माताओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और पोषण प्रदान करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। हम यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठा रहे हैं कि आंगनवाड़ी केंद्र हर उस ज़रूरी संसाधन से लैस हो जो माताओं और बच्चों के सर्वांगीण विकास में सहायक हो।

महिला एवं बाल विकास मंत्री ने आगे कहा कि दिल्ली भर के आंगनवाड़ी केंद्र 0-6 साल के बच्चों की ज़रूरतों को पूरा करते हैं जिसमें उनके पोषण के साथ-साथ शुरुआती शिक्षा भी शामिल है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार अपने आंगनवाड़ियों में विभिन्न परियोजनाओं को लागू करने की योजना बना रही है जो यहाँ आने वाले बच्चों में बेहतर स्वास्थ्य और बुनियादी सीखने के स्तर को सुनिश्चित करने का काम करेंगे।

उन्होंने कहा कि, बच्चों के शुरूआती 0-6 साल उनके शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बेहद जरुरी होते है| इस उम्र में दिल्ली के हर बच्चे को बेहतर अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन मिले इसके लिए हमने अपने आंगनवाडी केन्द्रों को सशक्त बनाना शुरू कर दिया है| मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल जी के नेतृत्व में हमारा विज़न है कि प्रारंभिक बाल्यवस्था से ही हम दिल्ली के हर बच्चे को वो जरुरी सुविधा मुहैया करवाए जिससे उनकी नींव मजबूत हो| क्योंकि जब नींव मजबूत होगी तो बच्चों को आगे पोषण और पढाई सम्बन्धी किसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा|

आंगनवाडी केन्द्रों द्वारा अर्ली चाइल्डहुड एजुकेशन के क्षेत्र में केजरीवाल सरकार द्वारा उठाये जा रहे महत्वपूर्ण कदम क्या है?

आंगनवाडी केन्द्रों द्वारा प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल और शिक्षा को बेहतर बनाने क्षेत्र में विभाग द्वारा उठाये जा रहे क़दमों को साझा करते हुए अधिकारीयों ने बताया कि दिल्ली सरकार की ओर से सभी आंगनवाडी केन्द्रों को 35 आइटम वाला एक लर्निंग किट दिया जायेगा | जो आँगनवाड़ी केन्द्रों में आने वाले बच्चों के लर्निंग को और रोचक बनाने का काम करेंगे|

साथ ही मास्टर ट्रेनर्स द्वारा आंगनवाडी केन्द्रों में सुपरवाईजरों और आंगनवाडी वर्कर्स को प्रशिक्षण दिया जायेगा जिससे आंगनवाड़ियों में आने वाले बच्चों को प्रारंभिक बाल्यवस्था में बेहतर देखभाल और शिक्षा प्राप्त हो सकें।”

बच्चों की शिक्षा में पेरेंट्स का बेहद अहम् योगदान होता है| पेरेंट्स को आँगनवाड़ी केन्द्रों से जोड़ने और अपने बच्चों की पढ़ाई में सहभागिता निभाने की दिशा में केजरीवाल सरकार के आंगनवाडी केन्द्रों पर हर महीने ‘ईसीसीई डे’ मनाया जायेगा है| यहाँ अभिभावकों को पूरे महीने में उनके बच्चों में कितना ग्रोथ आया इस बारे में अवगत करवाया जायेगा| साथ ही यहाँ अभिभावकों की काउंसलिंग की जाएगी जिससे वे अपने घर में भी ऐसा वातावरण तैयार कर सकें जो बच्चों के विकास में सहायक हो|

साथ ही बच्चों की पढ़ाई में भागीदार बनाने के लिए आंगनवाड़ियों के ग्रुप एक्टिविटी में पेरेंट्स को शामिल किया जायेगा|

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *