भाजपा ने मेयर चुनाव में सरेंडर कर पूरी दिल्ली में कटा दी अपनी नाक- सौरभ भारद्वाज

Listen to this article
  • भाजपा को जब सरेंडर ही करना था तो एमसीडी के मेयर चुनाव में हिस्सा नहीं लेना चाहिए था- सौरभ भारद्वाज
  • भाजपा के पास अपने पार्षदों के 104 वोट भी नहीं हैं, पोल खुलने की डर से चुनावी मैदान से भाग गई- सौरभ भारद्वाज
  • भाजपा ने पार्षदों की संख्या कम होने के बावजूद मेयर पद के लिए नामाकंन किया और जोड़-तोड़ में लगी रही- सौरभ भारद्वाज
  • एमसीडी में शुरू हुए काम अब और गति पकड़ेंगे, स्टैंडिंग कमेटी के गठन के बाद कई गुना स्पीड से काम किए जाएंगे- सौरभ भारद्वाज

आम आदमी पार्टी ने बुधवार को हुए एमसीडी के मेयर चुनाव से ठीक पहले नाम वापस लेने पर भाजपा पर जबरदस्त हमला बोला। ‘‘आप’’ के वरिष्ठ नेता एवं कैबिनेट मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा कि भाजपा को एमसीडी मेयर के चुनावी युद्ध में आना ही नहीं चाहिए था और अगर आ गई थी तो फिर उसे युद्ध से पहले मैदान छोड़कर भागना नहीं चाहिए था। यह बहुत ही शर्म की बात है। भाजपा ने आज पूरी दिल्ली में अपनी नाक कटा दी है। मेयर चुनाव से ठीक पहले नाम वापस लेने का मतलब है कि भाजपा के घर में कुछ गड़बड़ चल रहा है। शायद भाजपा के 104 पार्षदों के वोट भी उसके साथ नहीं हैं। इसीलिए अपनी पोल खुलने की डर से भाजपा ने चुनाव से पहले सरेंडर कर दिया।

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं कैबिनेट मंत्री सौरभ भारद्वाज ने बुधवार को एमसीडी की मेयर डॉ. शैली ओबरॉय के साथ पार्टी मुख्यालय में प्रेसवार्ता कर कहा कि एमसीडी में दूसरी बार मेयर के रूप में शैली ओबराय विजयी रहीं। जबकि डिप्टी मेयर के रूप में आले मोहम्मद इकबाल चुने गए हैं। जब 4 दिसंबर को चुनाव हुआ था, तब भी आम आदमी पार्टी विजयी हुई थी और भाजपा का 15 साल का शासन खत्म हो गया। भाजपा उस समय से ही अपना मेयर बनाने का दावा करती आ रही है। भाजपा के पास पार्षदों की संख्या कम होने के बावजूद तीन दिन पहले मेयर पद के लिए नामाकंन किया। इसका मतलब यह था कि भाजपा जोड़-तोड़ में लगी हुई थी। पिछले चुनाव में भी भाजपा पार्षदों को जोड़-तोड़ करने में लगी रही।

उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले भाजपा का इस तरह से पीछे हटने से पता चलता है कि उनके घर में कुछ तो गड़बड़ है। उन्होंने कहा कि ऐसा लग रहा है कि भाजपा के 104 पार्षदों के वोट भी उनके साथ नहीं हैं। दिल्ली वालों के सामने पोल खुलने की डर से भाजपा ने चुनाव से पहले ही सरेंडर कर दिया। भाजपा को या तो एमसीडी मेयर के चुनावी युद्ध में आना नहीं चाहिए था और अगर आ गई तो फिर युद्ध से पहले भागना नहीं चाहिए। यह बहुत शर्म की बात है। भाजपा ने पूरी दिल्ली में अपनी नाक कटा दी है।

सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली के लोग जिस तरह सीएम अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली सरकार चल रही है, उसी तरह दिल्ली नगर निगम को भी चलते हुए देखना चाहते है। इसलिए अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी ने आज शैली ओबरॉय को मेयर और आले मोहम्मद इकबाल को डिप्टी मेयर के रूप में एक बार फिर दिल्ली की जनता की जिम्मेदारी सौंपी है। मैं दिल्ली के लोगों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि एमसीडी में जो काम शुरू हुए हैं, वे अब और गति पकड़ेंगे। साथ ही स्टैंडिंग कमेटी के गठन के बाद कई गुना स्पीड से कामों को आगे बढ़ाया जाएगा।

‘‘आप’’ के वरिष्ठ नेता सौरभ भारद्वाज ने एमसीडी के पीठासीन अधिकारी मुकेश गोयल को बधाई देते हुए कहा कि एलजी ने गैरकानूनी तरीके से पिछली बार उन्हें पीठासीन अधिकारी नहीं बनाया था। जबकि पांच बार के पार्षद होने के नाते पीठासीन अधिकारी बनना इनका हक था। इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट ने फटकार भी लगाई। जिसके बाद एलजी को मानना पड़ा कि जो सबसे वरिष्ठ पार्षद हैं और पीठासीन अधिकारी बनें।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *